दिल्ली के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले छात्रों को इन क्षेत्रों में करियर बनाने के लिए मुफ्त में मिलेगी कोचिंग

नई दिल्ली। दिल्ली सरकार इंजीनियरिंग, मेडिकल और अन्य तकनीकी क्षेत्रों में करियर बनाने के इच्छुक सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले छात्रों को NEET और JEE जैसी प्रवेश परीक्षाओं के लिए मुफ्त कोचिंग प्रदान करेगी। इसकी जानकारी बुधवार को अधिकारियों ने दी। शिक्षा निदेशालय (डीओई) ने छात्रों को प्रवेश परीक्षाओं के लिए तैयार करने के लिए ‘अवंती फेलो’ के साथ एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए हैं। दिल्ली के डिप्टी सीएम और शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने बताया कि पहले वर्ष सरकार कक्षा 11-12 के चयनित छह हजार छात्रों को मुफ्त कोचिंग प्रदान कराएगी। उन्होंने कहा कि सरकारी स्कूलों से चयनित छात्रों को मुफ्त कोचिंग का लाभ मिलेगा। उन्होंने कहा कि इससे पहले यह मुफ्त कोचिंग कार्यक्रम कुछ स्कूलों में पायलट प्रोजेक्ट के तहत शुरू किया गया था।

इसके परिणाम अच्छे आने पर अब सरकार प्रदेश भर के उन छात्रों को फ्री में कोचिंग उपलब्ध कराएगी जो इंजीनियरिंग, मेडिकल और अन्य तकनीकी क्षेत्रों में अपना करियर बनाने के इच्छुक हैं।

मनीष सिसोदिया ने बताया पायलट प्रोजेक्ट के तहत एससी और एसटी वर्ग की 160 से अधिक लड़कियों को विशेषज्ञों द्वारा एनईईटी के लिए मुफ्त कोचिंग मिल रही है। उन्होंने कहा कि कई बच्चे डाक्टर और इंजीनियर बनने के लिए सर्वश्रेष्ठ चिकित्सा या इंजीनियरिंग संस्थानों से उच्च शिक्षा प्राप्त करने का सपना देखते हैं। लेकिन उनके माता-पिता महंगी कोचिंग का खर्च उठाने में सक्षम नहीं हैं। ऐसे गरीब बच्चों का सपना अब दिल्ली सरकार पूरा करने में मदद करेगी।

बता दें कि वर्तमान समय में दिल्ली के सभी सरकारी स्कूलों में 30,000 से अधिक छात्र साइंस की पढ़ाई कर रहे हैं। नि: शुल्क परीक्षा तैयारी कार्यक्रम इन छात्रों को एसटीईएम आधारित क्षेत्रों, इंजीनियरिंग, एमबीबीएस/बीडीएस, फार्मेसी, नर्सिंग, पैरामेडिकल पाठ्यक्रमों और अनुसंधान कार्यक्रमों में शीर्ष स्नातक कार्यक्रमों और डिप्लोमा पाठ्यक्रमों में प्रवेश पाने और एसटीईएम शिक्षा को बढ़ावा देने में मदद करेगा।

 

AVS POST Bureau

https://avspost.com

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.